इश्क में रुसवा

हिंदी फ़िल्में > डेंजरस इश्क के गाने > इश्क में रुसवा

गाना: इश्क में रुसवा
फिल्म: डेंजरस इश्क
गायक: अन्वेषा
गीत: शब्बीर अहमद
संगीत: हिमेश रेशम्मिया


इन गलिओ  को, इन रास्तो को
हम तो तनहा छोड़ चले
इश्क में रुसवा, रुसवा हो के चले - २

तेरी महफ़िल से रुसवा हुए
तेरी महफ़िल से रुसवा हुए
इश्क में रुसवा, रुसवा हो के चले
हो इश्क में रुसवा, रुसवा हो के चले

वोह तेरा छोड़के चले जाना
तेरे बिन मुश्किल जी पाना
यूं हमें तरसाना आ भी जा, छोड़ दे तडपाना
इन गलिओ  को, इन रास्तो को
हम तो तनहा छोड़ चले
इश्क में रुसवा, रुसवा हो के चले

तेरी महफ़िल से रुसवा हुए
तेरी महफ़िल से रुसवा हुए
इश्क में रुसवा, रुसवा हो के चले
हो इश्क में रुसवा, रुसवा हो के चले

इश्क पे, दाग ना  लग जाए
फासला और ना  बढ़ जाए
सांस ना  रुक जाए आ भी जा, देर ना  हो जाए
इन गलिओ  को, इन रास्तो को
हम तो तनहा छोड़ चले
इश्क में रुसवा, रुसवा हो के चले

तेरी महफ़िल से रुसवा हुए
तेरी महफ़िल से रुसवा हुए
इश्क में रुसवा, रुसवा हो के चले - ४