वोह परदेसी मन में, हो कौन दिशा से आ गया

हिंदी फ़िल्में > बरसात की एक रात के गाने > वोह परदेसी मन में, हो कौन दिशा से आ गया

गाना: वोह परदेसी मन में, हो कौन दिशा से आ गया
फिल्म: बरसात की एक रात
गायक: लता मंगेशकर
गीत:
संगीत: आर डी बर्मन


हाय वोह परदेसी मन में, हो कौन दिशा से आ गया

चारो दिशाओ में जी लगे लाज के पहरे थे
हो परबत से भी ऊँचे ऊँचे थे सागर से भी गहरे थे
हाय वोह परदेसी..........

मै टुटके फूल सी गिर पडू ना किसी झोली में
हो वोह ले ना जाये बिठाके मुझे नैनो की डोली में
हाय वोह परदेसी..........

सोचु खड़ी रोक पाई नहीं मै जिसे आने से
हो जायेगा वोह तोह उसे कैसे रोकूंगी मै जाने से
हाय वोह परदेसी..........