कभी काली रतिया कभी दिन सुहाने

हिंदी फ़िल्में > अलबेला(१९५१) के गाने > कभी काली रतिया कभी दिन सुहाने

गाना: कभी काली रतिया कभी दिन सुहाने
फिल्म: अलबेला(१९५१)
गायक: सी. रामचंद्र
गीत: राजेंद्र क्रिशन
संगीत: सी. रामचंद्र


कभी काली रतिया, कभी दिन सुहाने 
किस्मत की बाते तो किस्मत ही जाने 

ओ बेटा जी, अरे ओ बाबु जी 
किस्मत की हवा कभी नरम, कभी गरम 
कभी नरम नरम, कभी गरम-गरम 
कभी नरम गरम नरम गरम रे 
ओ बेटा जी .....

बड़े अकड़ से बेटा निकले घर से एक्टर होने 
वाह री किस्मत - 2, किस्मत में थे लिखे बरतन धोने 
अरे भाई लिखे बरतन धोने 
ओ बेटा जी, जीने का मज़ा कभी नरम, कभी गरम .....

दुनिया के इस चिड़िया घर में तरह तरह का जलवा 
मिले किसी को सुखी रोटी, किसी को पूरी हलवा 
अरे भाई किसी को पूरी हलवा 
ओ बेटा जी, खिचड़ी का मजा कभी नरम, कभी गरम ........

दर्द दिया तो थोडा थोडा, ख़ुशी भी थोड़ी थोड़ी 
वाह रे मालिक -2, दुःख और सुख की खूब बनायीं जोड़ी 
अरे वाह खूब बनायीं जोड़ी 
ओ बेटा जी, जीवन का नशा कभी नरम, कभी गरम .........